Meaning of Gunchaa

रविवार, जुलाई 08, 2012

न जाने वो क्या है?


क्या कहूं मैं उससे की वो क्या है...

वो झूमती हवा है

या कोई छाई हुई घटा है...

वो फूलों सी कोमल है

या शांत पानी में कोई हल-चल है...

वो जीने की एक उम्मीद है

या मेरे दिल के बहुत करीब है...

वो चेहरे की मुस्कान है

या मेरे मन का कोई अरमान है

वो हाथों की लकीर है...

या मेरे माथे पे लिखी तकदीर है

वो ज़िन्दगी का एक सहारा है

या लहरों को मिल जाए वो किनारा है...

नहीं जानता हूँ मैं की वो क्या है

बस इतना ही कहूँगा की

वो हर पल मेरे साथ है

वो केवल एक एहसास है...



-मनप्रीत